अक्तूबर 06, 2007

कबार-खाना के सभी साथियों को नमस्कार है। उम्मीद है आप सभी ठीक-ठाक होंगे। आज पहली बार इस फॉण्ट पर लिखने की कोशिश की है। अगली बार ज्यादा बात होगी।

13 टिप्‍पणियां:

ANUNAAD ने कहा…

Deepa ji blog ki duniya mein aapka swagat aur abhiwaadan. Ramnagar ki Seema Harbola aapko yaad karti hai... apko yad hai uske sath nainital mein ek makaan mein guzaare donon ki?

Saadar - shirish kumar mourya

deepa pathak ने कहा…

hi, shirish (maaf kijiyega lakin 'ji' wali aupcharikta mujhe jyada nahin bhaati..sayad delhi main kuch saal rahne ka asar hai.)
seema harbola ko main gudia ke naam se hee yaad karti hoon. aur itna to aap bhee gavahi denge ki woh ek baar milne ke baad bhulne wali ladki nahin hai..kya aap deepa.pathak@gmail.com main phone number de sakte hain, main usse baat karna chahti hoon.

ANUNAAD ने कहा…

05966221187 & 9412963674(shirish)

ANUNAAD ने कहा…

Deeapa ji kabhi mera blog ANUNAAD bhi dekhiyega... Link kabaadkhaana mein banaa hua hai.

shirish

[ आशुतोष ] ने कहा…

अब नमस्कार-पुरस्कार से आगे भी बढ़ेगी कि यहीं टिकी रहेगी बात। कुछ पुरानी कविताएं ही चेप दो।

इन्दु ने कहा…

दीपा, आज कबाड़खाना में अचानक तेरा ब्लोग दिख गया . वैसे ना सही, ब्लोग के बहाने ही सही, कुछ बात तो हो सकेगी . तेरा सोनापानी बहुत दिनों तक ज़ेहन में समाया रहा . चलो , कोई तो अपने सपनों के आसमान में उड़ान भर पा रहा है . वन्या कैसी है? किस क्लास में है? आशीष की योजनायें और क्या-क्या हैं? तुम्हारा लिखना-पढना क्या चल रहा है? उम्मीद है, अब ब्लोग के ज़रिये बार-बार मुलाक़ात होती रहेगी .

ANUNAAD ने कहा…

दीपा ब्लाग का अच्छा नामकरण करने के लिए गुिड़या की और मेरी बधाई।

ANUNAAD ने कहा…

आशुतोष दद्दा ने ने ठीक कहा - ब्लाग पर अब कुछ चिपकाओ भी। हम इंतजार करेंगे।

अजित ने कहा…

ये तो पूरा कुनबा ही यहा इकट्ठा हो गया.....पहले लगा कि ग़लत जगह तो नहीं आ गया। मगर प्यारी प्यारी बातें थीं तो पढ़ता चला गया। अपनों की बातें
....

यूं उत्तराखंड से हमारा भी रिश्ता बनता है। हरिद्वार हमारी ननिहाल है। स्कूटर से , साइकल से कई बार रिषिकेश तक हो आए हैं।

indra ने कहा…

shirish bhai namskar. mai indra mohan ramnagar se. ganesh bhai ke saah mile the.

indra ने कहा…

hisaloo bachpan mai maine bhi bhahut khaye hain.

indra ने कहा…

kya baat ai, bhut din se koi tippani nahi aa rahi hai.

pradip k p ने कहा…

deepa tumhe ek kavita karne wali ke roop mein to janta he tha magar you write prose in a very impressive way. tumhre lekh man (mind) ko dus bara saal purane samay mein le gaye jahan se bahar aane mein samay laga.lagta hai ki tum padai likhai mein abhi bhi khoob samay deti ho, bahut achha.tumhre kavitaien achhe hain inhe kam se kam 'uttara' mein to do.. taki blogbazi na karne waley bhi parh sakein
aur haan oh 'Anil anda' nahin 'Anil bhutta' hai ab utna he mehnati utna he akdu
pradip k