अक्तूबर 15, 2007

पुरानी डायरी

यूं ही हाथ पड जाती है पुरानी डायरी
किताबों के बीच दबी निरीह सी
कोने पर बैठी डांट खाई पालतू बिल्ली सी
सहसा उमडा लाड पुचकार कर पलटे पन्ने
यूं ही कुछ अनगढ बेतरतीबी सी सतरें
याद दिलाती धुंधली बातों की
कभी के बरसे आंसू बंद किन्हीं पन्नों पर
अब भी नरमा देते पलकों की कोरों को
कहीं पन्नों पर जंगली फूल दबे हैं
कच्ची हल्दी के फूल सफेद पडे हैं
छोटी प्यारी कोई कविता यहीं छिपी है किन्हीं कवि की
राहत देती सी यहां सभी हैं साथ तुम्हारे
फीस की एक रसीद भी यहीं मिलती है
अल्हड मस्ताने दिन रातों की यादों की कुंजी
सारी चीजें निकल बैठी हैं साथ में मेरे
बिछडे मित्रों सी गले लगा कर
पन्ने-पन्ने पलटे और फिर बंद हो गई
कच्ची उम्र के अनुभवों की संचित निधि
यूं ही साथ किताबों के बीच दबी डायरी में

5 टिप्‍पणियां:

swapandarshi ने कहा…

bahut achchii kavitaa hai.

मोहन राणा - Mohan Rana ने कहा…

किताबों के बीच दबी डायरी, किताब हो जाती है.

दीपा पाठक ने कहा…

aapka dhanyavaad.

RDS ने कहा…

यह जो ' जैसा कुछ' है, वही ऊगता है पनपता है और बिखर जाता है ! जैसा चाहा वैसी महक !!

आपकी कविता का यह ख्याल ही झकझोरता है कि -

" बेटे की ऊंची नौकरी भी शायद
उनकी प्रार्थनाओं में नहीं होती
अगर पहले से महसूस कर पाते
घर में उनके न होने का दर्द। "

बेटे का कारपोरेट मोह और माँ की व्यथा !! अब इस ताजातरीन माहौल में तो इन दोनों का कोई पारावार नहीं | फिर भी माँ कामना करती है, प्रार्थना करती है वही कुछ जो बेटा चाहे | व्यथा, माँ होने की अनन्यतम नियति है | अनुभूतियों को अत्यंत मर्मस्पर्शी रूप में काव्य अनुवादित किया है | मन और मस्तिष्क का श्रेष्ठ समन्वय है | प्रतिभा को प्रणाम करता हूँ |

- RDS

अनिल कान्त : ने कहा…

आह .....वाह !!